0
जगजीत सिंह जी के जन्मदिन (8 फ़रवरी ) के अवसर पर उनकी आवाज़ में एक ग़ज़ल पेश है
वो खत के पुर्जे उड़ा रहा था
हवाओ का रुख दिखा रहा था

बताऊ कैसे वो बहता दरिया
जब आ रहा था तो जा रहा था

कुछ और भी हो गया नुमायाँ
मै अपना लिखा मिटा रहा था

धुआँ-धुआँ हो गयी थी आँखे
चराग को जब बुझा रहा था

मुंडेर से झुक के चाँद कल भी
पड़ोसियों को जगा रहा था

उसी का इमां बदल गया है
कभी जो मेरा खुदा रहा था

वो एक दिन एक अजनबी को
मिरी कहानी सुना रहा था

वो उम्र कम कर रहा था मेरी
मै साल अपने बढ़ा रहा था

खुदा की शायद रज़ा हो इस में
तुम्हारा जो फैसला रहा था - गुलज़ार (सम्पूरण सिंह कालरा)

अब इसे जगजीत सिंह की आवाज़ में सुनते है
Roman

woh khat ke purze udaa raha tha
hawaao ka rukh dikha raha tha

batau kaise wo bahta dariya
jab aa raha tha to ja raha tha

kuch aur bhi ho gaya numaya
mai apna likha mita raha tha

dhuaan-dhuaan ho gayi thi aankhe
charag ko jab bujha raha tha

munder se jhuk ke chaand kal bhi
padosiyo ko jaga raha tha

usi ka imaan badal gaya hai
kabhi jo mera khuda raha

wo ek din ek ajanbi ko
miri kahani suna raha tha

wo umra kam kar raha tha meri
mai sal apne badha raha tha

khuda ki shayad raza ho is me
tumhara jo faisla raha tha - Gulzar (Smpooran Singh Kalra)
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top