0
आज फिर उनका सामना होगा
क्या पता उसके बाद क्या होगा

आसमान रो रहा है दो दिन से
आपने कुछ कहा-सुना होगा

दो कदम पर सही तेरा कूचा
ये भी सदियों का फासला होगा

घर जलाता है रौशनी के लिए
कोई मुझ सा भी दिलजला होगा - सबा सिकरी

चलिए इसे सुनते है


Roman

aaj phir unka samna hoga
kya pata uske baad kya hoga

aasmaan ro raha hai do din se
aapne kuch kaha-suna hoga

do kadam par sahi tera kuncha
ye bhi sadiyo ka fasla hoga

ghar jalata hai roshni ke liye
koi mujh sa bhi diljala hoga - Saba Sikri
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top