1
गुलिस्ता की हद तोड़ पाए तो जानू - पूनम कौसर
गुलिस्ता की हद तोड़ पाए तो जानू - पूनम कौसर

गुलिस्ता की हद तोड़ पाए तो जानू महक मेरे घर तक भी आए तो जानू सुबह वक्त सूरज को सब पूजते है कोई शा...

Read more »

0
तुमने तो कह दिया - नोशी गिलानी
तुमने तो कह दिया - नोशी गिलानी

Noshi Gilani तुमने तो कह दिया कि मोहब्बत नहीं मिली मुझको तो ये भी कहने की मोहलत नहीं मिली नींद...

Read more »

1
खैर, मै जीत तो नहीं पाया- विकास शर्मा राज़
खैर, मै जीत तो नहीं पाया- विकास शर्मा राज़

खैर, मै जीत तो नहीं पाया हाथ उसके भी कुछ नहीं आया चोर था मन में इसलिए मुझको हर कोई आइना नज़र आया ...

Read more »

0
अबके बरसात में गर झूम के आये बादल -शैदा बघौनवी
अबके बरसात में गर झूम के आये बादल -शैदा बघौनवी

अबके बरसात में गर झूम के आये बादल प्यास कुछ पिछले जनम की भी बुझाये बादल यादे-माज़ी न मुझे आके दिला...

Read more »

0
सय्यादो से आजाद फज़ा मांग रहे हो-चाँद शेरी
सय्यादो से आजाद फज़ा मांग रहे हो-चाँद शेरी

चाँद शेरी साहब के जन्मदिवस पर उन्हें शुभकामनाए और उनकी यह ग़ज़ल : Chand Sheri सय्यादो से आजाद फज़...

Read more »

1
फना के गार से ख्वाहिशो के लंबे हाथ बाहर थे - मुजफ्फर हनफ़ी
फना के गार से ख्वाहिशो के लंबे हाथ बाहर थे - मुजफ्फर हनफ़ी

फना के गार से ख्वाहिशो के लंबे हाथ बाहर थे वो दलदल में सर तक धस चुके थे हाथ बाहर थे हमारी जिंदगी ...

Read more »

0
सरकती जाये है रुख़ से नक़ाब- अमीर मीनाई
सरकती जाये है रुख़ से नक़ाब- अमीर मीनाई

Ameer Minai सरकती जाये है रुख़ से नक़ाब आहिस्ता-आहिस्ता निकलता आ रहा है आफ़ताब आहिस्ता-आहिस्त...

Read more »
 
 
Top