0
तू राधा है अपने कृष्ण की - परवीन शाकिर
तू राधा है अपने कृष्ण की - परवीन शाकिर

होली के अवसर पर आप सभी को शुभकामनाए आपके लिये होली को थोडा सा आध्यात्मिक रूप देते हुए परवीन शाकिर की सलमा कृष्ण ग़ज़ल पेश है:- तू राधा है ...

Read more »

3
कुछ यकीन कुछ गुमाँ की दिल्ली- अनवर जलालपुरी
कुछ यकीन कुछ गुमाँ की दिल्ली- अनवर जलालपुरी

Anwar Jalalpuri कुछ यकीन कुछ गुमाँ की दिल्ली अन-गिनत इम्तेहान की दिल्ली मकबरे तक नहीं सलामत अब थी कभी आन-बान की दिल्ली ख़्वाब, किस...

Read more »

0
जरा सा नाम पा जाए उसे- अशोक मिजाज़
जरा सा नाम पा जाए उसे- अशोक मिजाज़

जरा सा नाम पा जाए उसे, मंजिल समझते है बड़े नादान है मझदार को साहिल समझते है अगर वो होश में रहते तो दरिया पार कर लेते ज़रा सी बात है लेकिन...

Read more »
 
 
Top