0
कुछ तो रात का ग़म था लोगों कुछ मेरी तन्हाई थी
दिल तो मेरा अपना ही था लेकिन प्रीत पराई थी

अबके बरस ये कैसा मौसम कैसी रूत ये आई थी
बाहर सावन बरस रहा था अंदर मैं भर आई थी।

रस्ता जिसका तकते–तकते सावन सारा बीत गया
आनेवाले ने कहलाया मैं ज़ालिम हरजाई थी

बात अंधेरे में होती तो अपने ग़म को ढंक लेती
बाहर सूरज डूब रहा था आंख मेरी भर आई थी

आंसू, आहें, बिजली, बादल और ये काले रंग तमाम
मैं अपनी किस्मत में लोगों रब से लिखवा लाई थी - रुखसाना सिद्दीकी

Roman
kuch to raat ka gam tha logo kuch meri tanhai thi
dil to mera apna hi tha lekin preet parai thi

abke baras ye kaisa mousam keisi rut ye aai thi
bahar sawan baras raha tha andar mai bhar aai thi

rasta jiska takte-takte sawan sara beet gaya
aane wale ne kahlaya mai jalim harjai thi

baat andhere me hoti to apne gham ko dhak leti
bahar suraj dub raha tha aankh meri bhar aai thi

aahu, aahe, bijli, badal aur ye kaale rang tamaam
mai apni kismat me logo rab se likhwa laai thi - Rukhsana Siddiqui
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top