0
राह देखेंगे न दुनिया से गुजरने वाले
हम तो जाते है ठहर जाए ठहरने वाले

एक तो हुस्न बला उस पे बनावट आफत
घर बिगडेंगे हजारों के सवरने वाले

तेरे गेसू-ए-परेशां न करे, सौदाई
सर न हो जाए किसी के ये बिखरने वाले

हश्र में लुत्फ़ हो जब उनसे हो दो बाते
वो कहे कौन हो तुम, हम कहे मरने वाले

हज़रते-दाग जहा बैठ गए बैठ गए
और होंगे तेरी महफ़िल से उभरने वाले - दाग देहलवी

मायने
गेसू-ए-परेशां = बिखरे बाल, सौदाई=दीवाना, हश्र=परलोक

Roman

raah dekhenge n duniya se gujrane wale
ham to jate hai thahar jaye thahrne wale

ek to husn bala us pe banawat aafat
ghar bigdenge hajaro ke sawarne wale

tere gesu-e-paresha n kare, soudai
sar n ho jaye kisi ke ye bikhrane wale

hashr me lutf ho jab unse ho do baate
wo kahe koun ho tum, ham kahe marne wale

Hajrate-Daag jaha baith gaye baith gaye
aur honge teri mahfil se ubharne wale - Daag Dehlavi
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top