0
वो भी क्या लोग थे आसान थी राहें जिनकी
बन्द आँखें किये इक सिम्त चले जाते थे
अक़्ल-ओ-दिल ख़्वाब-ओ-हक़ीक़त की न उलझन न ख़लिश
मुख़्तलिफ़ जलवे निगाहों को न बहलाते थे

इश्क़ सादा भी था बेख़ुद भी जुनूँपेशा भी
हुस्न को अपनी अदाओं पे हिजाब आता था
फूल खिलते थे तो फूलों में नशा होता था
रात ढलती थी तो शीशों पे शबाब आता था

चाँदनी कैफ़असर रूहअफ़्ज़ा होती थी
अब्र आता था तो बदमस्त भी हो जाते थे
दिन में शोरिश भी हुआ करती थी हंगामे भी
रात की गोद में मूँह ढाँप के सो जाते थे

नर्म रौ वक़्त के धारे पे सफ़ीने थे रवाँ
साहिल-ओ-बह्र के आईन न बदलते थे कभी
नाख़ुदाओं पे भरोसा था मुक़द्दर पे यक़ीं
चादर-ए-आब से तूफ़ान न उबलते थे कभी


हम के तूफ़ानों के पाले भी सताये भी हैं
बर्क़-ओ-बाराँ में वो ही शम्में जलायें कैसे
ये जो आतिशकदा दुनिया में भड़क उट्ठा है
आँसुओं से उसे हर बार बुझायें कैसे

कर दिया बर्क़-ओ-बुख़ारात ने महशर बर्पा
अपने दफ़्तर में लिताफ़त के सिवा कुछ भी नहीं
घिर गये वक़्त की बेरहम कशाकश में मगर
पास तहज़ीब की दौलत के सिवा कुछ भी नहीं

ये अंधेरा ये तलातुम ये हवाओं का ख़रोश
इस में तारों की सुबुक नर्म ज़िया क्या करती
तल्ख़ी-ए-ज़ीस्त से कड़वा हुआ आशिक़ का मिज़ाज
निगाह-ए-यार की मासूम अदा क्या करती

सफ़र आसान था तो मन्ज़िल भी बड़ी रौशन थी
आज किस दर्जा पुरअसरार हैं राहें अपनी
कितनी परछाइयाँ आती हैं तजल्ली बन कर
कितने जल्वों से उलझती हैं निगाहें अपनी - आले अहमद सुरूर

Roman
wo bhi kya log the aasan thi rahe jinki
band aankhe kiye ik simt chale jate the
akl-o-dil khwab-o-haqikat ki n uljhan n khalish
mukhtlif jalwe nigaho ko n bahlate the

ishq sada bhi tha bekhud bhi junupesha bhi
husn ko apni adao pe hijab aata tha
ful khilte the to phoolo me nasha hota tha
rat dhalti thi to shisho me shabab aata tha

chandni kaifasar ruhafza hoti thi
abr aata tha to badmast bhi ho jate the
din me shorish bi hua karti thi hangame bhi
rat ki god me muh dhap ke so jate the

narm rou waqt ke dhare pe safine the ranva
sahil-o-bah ke aain n badlate the kabhi
nakhudao pe bharosa tha mukddar pe yakeen
chadar-e-aab se tufaan n ublate the kabhi

ham ke tufaano ke pale bhi sataye bhi hai
bark-o-bara me wo hi shamme jalaye kaise
ye jo aatishkda duniya me bhadak uthta hai
aansuo se use har baar bujhaye kaise

kar diya bark-o-bukharat ne mahshar barpa
apne daftar me litafat ke siwa kuch bhi nahi
ghir gaye waqt ki beraham kashakash me magar
paas tahjeeb ki doulat ke siwa kuch bhi nahi

ye andhera ye talatum ye hawao ka kharosh
is me taro ki subuk narm zia kya karti
talkhi-e-jist se kadwa hua aashiq ka mizaz
nigah-e-yaar ki masoom ada kya karti

safar aasan tha to manjil bhi badi roushan thi
aaj kis darja purasrar hai rahe apni
kitni parchaiya aati hai tajlli ban kar
kitne jalwo se uljhati hai nigahe apni- Ale Ahmad Suroor

Post a Comment Blogger

 
Top