1
सिर्फ धोखा था कोई तेरा कि जो था वो न था
मैंने सोचा था तुझे जैसा कि जो था वो न था

मंजिलो की जुस्तजू में घर से मै निकला मगर
था सभी कुछ ठीक पर रस्ता कि जो था वो न था

साथ था दिन भर वो मेरे इक मुसाफिर की तरह
शाम जब आयी तो ये जाना कि जो था वो न था

उसके भीतर झांकते ही मुझको अंदाजा हुआ
था वो अपनी जात में ऐसा कि जो था वो न था

तुने नाहक मेरी बातो का बुरा माना है दोस्त
गौर करना बस मिरा कहना कि जो था वो न था - परवेज़ वारिस (राजकोट से )

Roman

sirf dhokha tha koi tera ki jo tha wo n tha
maine socha tha tujhe jaisa ki jo tha wo n tha

manzilo ki justju me ghar se mai nikla magar
tha sabhi kuch thek par rasta ki jo tha wo n tha

sath tha din bhar wo mere ik musafir ki tarah
sham jab aayi to ye jana ki jo tha wo n tha

uske bheetar jhankte hi mujhko andaja hua
tha wo apni jaat me aisa ki jo tha wo n tha

tune nahak meri baato ka bura mana hai dost
gour karna bar mira kahna ki jo tha wo n tha - Parvez Waris
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top