1
एक क़तरा मलाल भी बोया नहीं गया
वोह खौफ था के लोगों से रोया नहीं गया

यह सच है के तेरी भी नींदें उजड़ गयीं
तुझ से बिछड़ के हम से भी सोया नहीं गया

उस रात तू भी पहले सा अपना नहीं लगा
उस रात खुल के मुझसे भी रोया नहीं गया

दामन है ख़ुश्क आँख भी चुप चाप है बहुत
लड़ियों में आंसुओं को पिरोया नहीं गया

अलफ़ाज़ तल्ख़ बात का अंदाज़ सर्द है
पिछला मलाल आज भी गोया नहीं गया

अब भी कहीं कहीं पे है कालख लगी हुई
रंजिश का दाग़ ठीक से धोया नहीं गया - फरहत अब्बास शाह ( فرحت عباس شاہ)

Roman

Ek katra malal bhi boya nahi gaya
woh khouf ke logo se roya nahi gaya

yah sach hai ke teri bhi ninde ujad gayi
tujh se bichchad ke ham se bhi soya nahi gaya

us raat tu bhi pahle sa apna nahi laga
us raat khul ke mujhse bhi roya nahi gaya

daman hai khushk aankh bhi chupchap hai bahut
ladiyo me aansuo ko piroya nahi gaya

alfaz talkh, baat ka andaj sard hai
pichla malal aaj bhi goya nahi gaya

ab bhi kahi kahi pe kalakh lgi hui
ranjish ka daag thik se dhoya nahi gaya - Farhat Abbas Shah
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top