0
क्या लिखू क्या मंज़र है
फूल के हाथ में पत्थर है

ऐसी बारिश ऐसी हवा
सारा गुस्सा मुझ पर है

प्यासा है तो प्यास दिखा
तू कोई पैगम्बर है

दीवाने! दीवाना बन
तेरे हक में बेहतर है

मै कैसे मर सकता हू
इतना कर्जा मुझ पर है

अपनी खैर मनाओ मियां
अगला पत्थर तुम पर है

अच्छी है बारिश लेकिन
छत पर एक कबूतर है - रऊफ रज़ा

Roman

Kya likhu kya manzar hai
phool ke haath me patthar hai

aisi barish aisi hawa
sara gussa mujh par hai

pyasa hai to pyas dikha
tu koi paigambar hai

deewane! deewana ban
tere haq me behatar hai

mai kaise mar sakta hu
itna karja mujh par hai

apni khair manao miyan
agla patthar tum par hai

achchi hai barish laikin
chhat par ek kabutar hai- Rauf Raza
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top