7

चीनी हो जापानी हो
रूसी हो ईरानी हो
बाशिंदा हो लंका का
या वो हिंदुस्तानी हो

सब का मान बराबर है
हर इंसान बराबर है

अनवर हो अरबिंदो हो
मरियम हो या इंदु हो
मुस्लिम हो या ईसाई
वो सिख हो या हिन्दू हो
सब का मान बराबर है
हर इंसान बराबर है

सेठ भिकारी एक समान
मिल मालिक हो या दरबान
जिस की कुटिया छोटी सी
जिस का बंगला आलीशान

सब का मान बराबर है
हर इंसान बराबर है

फौजी हो या पटवारी
मेरासी या भंडारी
खेती करने वाला हो
या करता हो सरदारी

सब का मान बराबर है
हर इंसान बराबर है

चपरासी हो या अफसर
मौची हो या सौदागर
खींच रहा है जो रिक्शा
जो बेठा है रिक्शा पर

सब का मान बराबर है
हर इंसान बराबर है

पंजाबी हो या सिंधी
उर्दू बोले या हिंदी
धौती पहने या सलवार
फूल सजाऐ या बिंदी

सब का मान बराबर है
हर इंसान बराबर है

काम ज़रूरी करता हो
या मज़दूरी करता हो
जो भी हो वो जैसा भी
मेंहनत पूरी करता हो

सब का मान बराबर है
हर इंसान बराबर है - मुजफ्फर हनफ़ी

Roman

chini ho ya japani
rusi ho irani ho
bashinda ho lanka ka
ya wo hindustaani ho

sab ka maan barabar hai
har inasaan barabar hai

anwar ho ya arbindo ho
mariyam ho ya indu ho
muslim ho ya isai
wo sikkh ho ya hindu ho

sab ka maan barabar hai
har inasaan barabar hai

seth bikhari ek saman
mil malik ho ya darban
ji ki kutiya chhoti si
jis ka bangla aalishan

sab ka maan barabar hai
har inasaan barabar hai

fouzi ho ya patwari
merasi ya bhandari
kheti karne wala ho
ya karta ho sardari

sab ka maan barabar hai
har inasaan barabar hai

chaprasi ho ya afsar
mouchi ho ya soudagar
khinch raha hai jo riksha
jo baitha hai riksha par

sab ka maan barabar hai
har inasaan barabar hai

panjabi ho ya sindhi
Urdu bole ya Hindi
dhouti pahne ya salwar
phool sajaye ya bindi

sab ka maan barabar hai
har inasaan barabar hai

kaam jaruri karta ho
ya majduri karta ho
jo bhi ho wo jaisa bhi
mehnat puri karta ho

sab ka maan barabar hai
har inasaan barabar hai - Muzffar Hanfi
#jakhira

Post a Comment Blogger

  1. कल 27/अगस्त/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  2. सब का मान बराबर है
    हर इंसान बराबर है
    बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  4. सच कहा है .. इंसान सब बराबर हैं ... फिर भी फर्क है जो इंसान का ही डाला हुआ है ....

    ReplyDelete

 
Top