0
चाँद शेरी साहब के जन्मदिवस पर उन्हें शुभकामनाए और उनकी यह ग़ज़ल :
Chand Sheri
सय्यादो से आजाद फज़ा मांग रहे हो
गुलचीनो से गुलशन का भला मांग रहे हो

धनवानों से उम्मीद है क्या रहमो करम की
नादां हो क्यू इनसे दया मांग रहे हो

रहजन से भी बदतर है बहुत आज का रहबर
इक अंधे से मंजिल का पता मांग रहे हो

जो खुद ही खतावार है इन्साफ के मुजरिम
क्यू अपने लिए उनसे सजा मांग रहे हो

घर खंजरों में अपना बनाया है तो शेरी
क्यू चैन से जीने की दुआ मांग रहे हो – चाँद शेरी

मायने
सय्यद=शिकारी, गुलचीनो=फुल चुनने वाला, रहजन=लुटेरा, रहबर=राह दिखाने वाला

Roman

Sayyado se azad faza maang rahe ho
Gulcheeno se gulshan ka bhala maang rahe ho

Dhanwano se ummid hai kya rahmo-karam ki
Naadan ho kyu inse dayaa mang rahe ho

Rahjan se bhi badtar hai bahut aaj ka rahbar
Ik andhe se manjil ka pata maang rahe ho

Jo khud hi khatawar hai insaaf ke mujrim
Kyu apne liye unse sajaa maang rahe ho

Ghar khanjro me apna banaya hai to sheri
Kyu chain se jeene ki duaa maang rahe ho – Chand Sheri

Post a Comment Blogger

 
Top