1
खैर, मै जीत तो नहीं पाया
हाथ उसके भी कुछ नहीं आया

चोर था मन में इसलिए मुझको
हर कोई आइना नज़र आया

ये मुलाकात भी जरुरी थी
सर्द रिश्तों को शाल दे आया

उठ रहे है सवाल मौसम पर
एक ही फूल कैसे मुरझाया

हाफ़िज़े पर गुरुर है उसको
पर मिरे ऐब ही गिना पाया

कहकशा फिर दमक रही है मगर
वो सितारा नज़र नहीं आया - विकास शर्मा राज़

मायने
हाफ़िज़े=याददाश्त, कहकशा=आकाशगंगा

Roman
khair, mai jeet to nahi paya
haath uske bhi kuch nahi aaya

chor the man me isliye mujhko
har koi aaina nazar aaya

ye mulakat bhi jaruri thi
sard rishto ko shaal de aaya

uth rahe hai sawal mousam par
ek hi phool kaise murjhaya

hafize par gurur hai usko
par mere aeb hi gina paya

kahkasha fir damak rahi hai magar
wo sitara nazar nahi aaya - Vikas Sharma "Raaz"

Post a Comment Blogger

 
Top