1
फना के गार से ख्वाहिशो के लंबे हाथ बाहर थे
वो दलदल में सर तक धस चुके थे हाथ बाहर थे

हमारी जिंदगी भर पाँव चादर से रहे बाहर
ताज्जुब है सिकंदर के कफ़न से हाथ बाहर थे

इधर नोची खासोती औरते दहशतजदा बच्चे,
सलाखे दरमियाँ थी कुछ लरज़ते हाथ बाहर थे

मै उसे रोकता कैसे मै उससे पूछता भी क्या
उसकी गोद से दो नन्हे-नन्हे हाथ बाहर थे

खता कि है मुजफ्फर ने यक़ीनन हाथ फैलाकर
मगर उस वक्त जेबो से तुम्हारे हाथ बहार थे – मुजफ्फर हनफ़ी

मायने
फ़ना=मृत्यु, गार=गड्डा

Roman

Fanaa ke gaar se khwahisho ke lambe haath baahar the
Wo daldal me sar tak dhas chuke the haath baahar the

Hamari zindgi bhar paanv chadar se rahe baahar
Tajjub hai sikandar ke kafan se haath baahar the

Idhar nochi khasoti aurte, dahshatjda bachche,
Salakhe darmiyaan thi kuch larjate haath baahar the

Mai use rokta kaise mai use puchhta bhi kya
Uski god se do nanhe-nanhe hath baahar the

Khata ki hai muzffar ne yakinan haath failakar
Magar us waqt jebo se tumhare haath baahar the – Muzffar Hanfi

Post a Comment Blogger

 
Top