0
अबके बरसात में गर झूम के आये बादल
प्यास कुछ पिछले जनम की भी बुझाये बादल

यादे-माज़ी न मुझे आके दिलाए बादल
अब मुझे खून के आसू न रुलाये बादल

फसले-गुल मेरी तमन्नाओ की लेकर लौटे
फिर मुझे चाँद से इक बार मिलाये बादल

उसकी आँखों की हंसी झील से पानी ले जाय
अबके अहसां न समुन्दर का उठाये बादल

दिल की बेआब ज़मीं कब से बंजर है शैदा
काश इसमें भी तो कुछ फूल उगाए बादल – शैदा बघौनवी

Roman

abke barsaat me gar jhum ke aaye badal
pyas kuch pichhle janam ki bhi bujhaye badal

yaade-maazi n mujhe aake dilaye badal
ab mujhe khoon ke aansu n rulaye badal

fasale-gul meri tamnnao ki lekar loute
fir mujhe chaand se ik baar milaye badal

uski aankho ki haseen jhil se paani le jay badal
abke ahsaan n samundar ka uthaye badal

dil kee beaab zameen kab se banjar hai shaida
kaash isme bhi to kuch phool ugaye badal- Shaida Baghounavi

Post a Comment Blogger

 
Top