0
Noon Meem Rashid
ज़िंदगी से डरते हो ?
ज़िंदगी तो तुम भी हो ज़िंदगी तो हम भी हैं !

आदमी से डरते हो ?
आदमी तो तुम भी हो आदमी तो हम भी हैं !
आदमी ज़ुबाँ भी है आदमी बयाँ भी है
इस  से तुम नहीं डरते !

हर्फ़ और मआनी के रिश्‍ता-हा-ए-आहन से आदमी हैं वाबस्ता
आदमी के दामन से ज़िंदगी है वाबस्ता
इस से तुम नहीं डरते !

अन-कही से डरते हो
जो अभी नहीं आई उस घड़ी से डरते हो
उस घड़ी की आने की आग ही से डरते हो !

पहले भी तो गुज़रे है
दूर ना-रसाई के बे-रिया ख़ुदाई के
फिर भी ये समझते हो हेच आरज़ू-मंदी
ये शब-ए-जुबाँ-बंदी है रह-ए-ख़ुदा-वंदी !

तुम यही समझते हो तुम मगर ये क्या जानो
लब अगर नहीं हिलते हाथ जाग उठते हैं

हाथ जाग उठते हैं राह का निशां बन कर
नूर की ज़ुबाँ बन कर
हाथ बोल उठते हैं सुब्ह की अज़ाँ बनकर
रौशनी से डरते हो ?
रौशनी तो तुम भी हो रौशनी तो हम भी हैं

रौशनी से डरते हो !
शहर की फ़सलों पर
देव का जो साया था पाक हो गया आख़िर
अजि़्दहाम-ए-इंसान से फ़र्द की नवा आई
ज़ात की सदा आई

राह-ए-शौक़ में जैसे राह-रू का ख़ूँ लपके
इक नया जुनूँ लपके !
आदमी छलक उट्ठे
आदमी हँसे देखो शहर फिर बसे देखो
तुम अभी से डरते हो ?- नून मीम राशिद

Roman
Zindgi se Darate ho?
zindgi to tum bhi ho zindgi to ham bhi hai

adami se Darate ho?
adami to tum bhi ho adami to ham bhi hai
adami zubaa bhi hai, adami bayaa bhi hai
is se tum nahi Darate

harf aur maani ke rishte haaye aahan se adami hai vaabastaa
adami ke daaman se zindagi hai vaabastaa
is se tum nahi Darate

ankahi se Darate ho
jo abhi aai nahi us ghadi se Darate ho
us ghaDi ke aane ki aag hi se Darate hi
pahale bhi to guzare hai
daur naarasaai ke, beriyaa, Khudaai ke
phir bhi ye samajhate ho, hech aazaruumandi
ye shab zubaanbandi, hai rahe Khudaabandi
tum yahi samajhate ho, tum magar ye kyaa jaano
lab agar nahi hilate haath jaag uThate hai
haath jaag uThate hai raah kaa nishaan ban kar
nuur ki zubaan ban kar
haath bol uThate hai subah ki azaan ban kar

roshani se Darate ho
roshani to tum bhi ho, roshani to ham bhi hai
roshani se Darate ho
shahar ki fasilo par
dev kaa jo saayaa thaa, paak ho gayaa aaKhir
az_dahaam-e-afsaa se fard ki navaa aai
zaat ki sadaa aai
raah-e-shauq me.n jaise raah ravi khoon lapake
ik nayaa junoon lapake
adami chhalak uthe
adami hase dekho, shahar phir base dekho

tum abhi se Darate ho
haa abhi to tum bhi ho, haa abhi to ham bhi hai
tum abhi se Darate ho- Noon Meem Rashid

Peeli Live se Song


Post a Comment Blogger

 
Top