2
फूल जैसे मखमली तलवों में छाले कर दिए
गोरे सूरज ने हजारों जिस्म काले कर दिए

प्यास अब कैसे बुझेगी हमने खुद ही भूल से
मैकदे कमजर्फ लोगो के हवाले कर दिए

देख कर तुझ को कोई मंजर ना देखा उम्र भर
एक उजाले ने मेरी आँखों में जाले कर दिए

रौशनी के देवता को पूजता था कल तलक
आज घर की खिड़कियों के कांच काले कर दिए

जिंदगी का कोई भी तोहफा नहीं है मेरे पास
खून के आंसू तो गज़लों के हवाले कर दिए - राहत इंदोरी

Roman

Phool jaise makhmali talawo me chhale kar diye
gore suraj ne hajaro jism kaale kar diye

pyas kaise bujhegi hamne khud hi bhool se
maikde kamzarf logo ke hawale kar diye

dekh kar tujh ko koi manjar naa dekha umr bhar
ek ujaale ne meri aankho me jaale kar diye

roshni ke devta ko pujta tha kal talak
aaj ghar ki khidkiyon ke kaanch kaale kar diye

jindgi ka koi bhi tohfa nahi hai mere paas
khoon ke aansu to ghazlo ke hawale kar diye- Rahat Indori

Post a Comment Blogger

  1. बहुत बढ़िया ग़ज़ल पढ़वाने का शुक्रिया

    ReplyDelete

 
Top