2
खुद को इतना भी मत बचाया करो
बारिशे हो तो भीग जाया करो

चाँद लाकर कोई नहीं देगा
अपने चेहरे से जगमगाया करो

दर्द हीरा है दर्द मोती है
दर्द आँखों से मत बहाया करो

काम ले कुछ हसीन होंठो से
बातो-बातो मे मुस्कुराया करो

धुप मायूस लौट जाती है
छत पे कपडे सुखाने आया करो

कौन कहता है दिल मिलाने को
कम से कम हाथ तो मिलाया करो - शक़ील आज़मी

Roman

Khud ko itna bhi mat bachaya karo
baarishe ho to bhig jaya karo

chaand lakar koi nahi dega
apne chehre se jagmagaya karo

dard heera hai dard moti hai
dard aankho se mat bahaya karo

kaam le kuch haseen hontho se
baato-baato me muskuraya karo

dhup mayus lout jati hai
chhat pe kapse sukhane aaya karo

koun kahta hai dil milane ko
kam se kam haath to milaya karo - Shakeel Azmi

Post a Comment Blogger

 
Top