1

हिन्दू या मुस्लिम के अहसासात को मत छेड़िये
अपनी कुरसी के लिए जज्बात को मत छेड़िये

हममें कोई हूण, कोई शक, कोई मंगोल है
दफ़्न है जो बात, अब उस बात को मत छेड़िये

ग़र ग़लतियाँ बाबर की थीं; जुम्मन का घर फिर क्यों जले
ऐसे नाजुक वक्त में हालात को मत छेड़िये

हैं कहाँ हिटलर, हलाकू, जार या चंगेज़ ख़ाँ
मिट गये सब, क़ौम की औक़ात को मत छेड़िये

छेड़िये इक जंग, मिल-जुल कर गरीबी के ख़िलाफ़
दोस्त, मेरे मजहबी नग्मात को मत छेड़िये- अदम गोंडवी

Roman

hindu ya muslim ke ahsasat ko mat chhediye
apni kursi ke liye jajbaat ko mat chhediye

hamme koi hun, koi shak, koi mangol hai
dafn hai jo baat, ab us baat ko mat chhediye

gar galtiya baabar ki thi; jumman ka ghar fir kyo jale
aise najuk waqt me halat ko mat chhediye

hai kaha hitlar, halaku, jaar ya changej khaan
mit gaye sab, koum ki aukat ko mat chhediye

chhediye ek jung, mil-jul kar garibi ke khilaf
dost, mere majhabi nagmaat ko mat chhediye- Adam Gondvi

Post a Comment Blogger

 
Top