0
हसते हुए माँ-बाप की गाली नहीं खाते
बच्चे है तो क्यो शौक से मिट्ठी नहीं खाते

तुझ से नहीं मिलने का इरादा तो है लेकिन
तुझसे न मिलेंगे ये कसम  भीं नही खाते

सो जाते है फुटपाथ पे अखबार बिछाकर
मजदूर कभी नींद की गोली नही खाते

बच्चे भी गरीबी को समझने लगे शायद
अब जाग भी जाते है तो सहरी नहीं खाते

दावत तो बड़ी चीज़ है हम जैसे कलंदर
हर एक के पैसे की दवा भी नहीं खाते

अल्लाह गरीबो का मददगार है 'राना'
हम लोगो के बच्चे कभी सर्दी नहीं खाते - मुनव्वर राना 

मायने 
सहरी = भोजन जो रोज़ा करने से बहुत बहुत तडक़े किया जाता है ।

Roman
Haste hue maa-baap ki gali nahi khaate
bachche hai to kyo shouk se mitti nahi khaate

tujh se nahi milne ka irada to hai lekin
tujhse n milenge ye kasam bhi nahi khaate

so jaate hai futpath pe akhbar bichhakar
majdoor kabhi nind ki goli nahi khate

bachche bhi garibi ko samjhane lage shayad
ab jaag bhi jaate hai to sahri nahi khaate

daawat to badi cheez hai ham jaise kalandar
har ek ke paise ki dawa bhi nahi khaate

allah garibo ka madadgar hai rana
ham logo ke bachche kabhi sardi nahi khaate - Munwwar Rana

Post a Comment Blogger

 
Top