0

जरा सा नाम पा जाए उसे, मंजिल समझते है
बड़े नादान है मझदार को साहिल समझते है

अगर वो होश में रहते तो दरिया पार कर लेते
ज़रा सी बात है लेकिन कहा गाफिल समझते है

अकेलापन कभी हमको अकेला कर नहीं सकता
अकेलेपन को हम महबूब की महफ़िल समझते है

बड़े लोगो के चेहरों पर शिकन भी आ नहीं सकती
कोई कालिख भी मल दे तो वो तिल समझते है

अजब बस्ती है इस बस्ती में सब रंगदार है शायद
शरीफों को तो वो पैदाइशी बुजदिल समझते है

मिजाज़, अपना फकीराना है फिर भी शुक्र है यारो
हमें भी लोग अपनी भीड़ में शामिल समझते है - अशोक मिजाज़
*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-
Roman
Jara sa naam pa jaye use, manjil samjhate hai
bade naadan hai majhdaar ko sahil samjhate hai

agar wo hosh me rahte to sariya paar kar lete
jara si baat hai lekin kahaan gafil samjhate hai

akelapan kabhi hamko akela kar nahi sakta
akelepan ko ham mahboob ki mahfil samjhate hai

bade logo ke chehro par shikan bhi aa nahi sakti
koi kalikh bhi mal de to teel samjhate hai

ajab basti hai is basti me sab rangdaar hai shayad
sharifo ko to wo paidaishi bujdil samjhate hai

Mizaj, apna fakirana hai fir bhi shukr hai yaaro
hame bhi log apni bhid me shamil samjhate hai - Ashok Mizaj

Post a Comment Blogger

 
Top