0

ये बहार का जमाना ये हसीं गुलों के साये
मुझे डर है बागबां को कहीं नींद आ न जाए

खिले गुलशन-ए-वफा में गुल-ए-नामुराद ऐसे
ना बहार ही ने पूछा ना खिजां के काम आए

तेरे वादे से कहाँ तक मेरा दिल फ़रेब खाए
कोई ऐसा कर बहाना मेरा दिल ही टूट जाए

मैं चला शराबखाने जहाँ कोई गम नहीं है
जिसे देखनी है जन्नत मेरे साथ-साथ आए-फ़ना निज़ामी कानपुरी
Roman
ye bahaar ka jamana ye hasi gulo ke saye
mujhe dar hai banbaan ko kahi nind n aa jaaye

khile gulshan-e-wafa me gul-e-namurad aise
na bahaar hi ne puchha na khiza ke kaam aaye

tere waade se kahaa tak mera dil fareb khaye
koi aisa kar bahana mera dil hi tut jaye
mai chala sharabkhane jahaa koi gham nahi hai- Fana Nizami Kanpuri

Post a Comment Blogger

 
Top