0
कान बजते है कि, फिर टूट के बरसे बादल,
आँख जब सुख रही थी तो कहा थे बादल

तीर बरसे जो नज़र कौसे-कुजहे पर की है
आग टपकी है जहा हमने निचोड़े बादल

मेरा पैगाम लिए जाने कहा फिरते है
लौट कर फिर मिरी बस्ती में न आये बादल

सर लड़ाती रही दीवारों से पागल आंधी
रात भर ढोल बजाते रहे अंधे बादल

रुख हवा का था इधर ही को, नहीं तो यारो
न चमकते, न गरजते, न बरसते बादल

मेरे हिस्से में न आई कोई धज्जी, सब लोग
थान के थान लिए जाते है काले बादल

तुझको पलको पे बिठाएगा 'मुज़फ्फर हनफ़ी'
इस तरफ आ, मिरे अच्छे, मिरे प्यारे बादल - मुज़फ्फर हनफ़ी
मायने
कौसे-कुजहे=इन्द्रधनुष, रुख=दिशा

Roman

kaan bajte hai ki, fir tut ke barse baadal
aankh jab sukh rahi thi to kaha the baadal

teer barse jo najar kouse-kunzhe par ki hai
aag tapaki hai jahaa hamne nichode baadal

mera paigam liye jaane kahaa firte hai
lout kar fir miri basti me n aaye  baadal

sar ladati rahi deewaro se pagal aandhi
raat bhar dhol bajate rahe andhe badal

rukh hawa ka tha idhar ho ko, nahi to yaaro
n chamkate, n garajate, n barasate baadal

mere hisse me n aai koi dhajji, sab log
than ke than liye jate hai kaale badal

tujhko palko pe bithayega 'Muzffar Hanafi'
is taraf aa, mire achche, mire pyare baadal- Muzffar Hanafi

Post a Comment Blogger

 
Top