0
दिल दिमाग सब बाद की बात
चलो करते है पेट और खुराक की बात

मेरा ऊंचाइयो से मतलब था
तुम करने लगे जिराफ की बात

कोई रहनुमा कोई फरिश्ता कोई खुदा
ये तो अपने-अपने नकाब की बात

मुल्क में अमन था, चैन था, मोहब्बत थी
फिर उठा दी किसी ने जात की बात

तुम ओहदा कह लो हैसियत कह लो
गाली सी चुभती है औकात की बात

वो बेशक न सुने बूढ़े बाप की अपने
पर टालता नहीं कभी औलाद की बात

घर होगा, बिजली, राशन, पानी होगा
नेताजी, खूब करते हो मजाक की बात

‘प्रदीप’ ये है अन्धो की बस्ती
कोई सुनता नहीं चिराग की बात – प्रदीप तिवारी

Roman

dil dimaag sab baad ki baat
chalo karte hai pet aur khuraak ki baat

mera unchaiyo se matlab tha
tum karne lage ziraf ki baat

koi rahnuma koi farishta koi khuda
ye to apne-apne naqab ki baat

mulk me aman tha, chain tha, mohbbat thi
fir utha di kisi ne jaat ko baat

tum ohda kah lo haisiyat kah lo
gaali si chubhti hai aukaat ki baat

wo beshak n sune budhe baap ki apne
par talta nahi kabhi aulaad ki baat

Ghar hoga, bijli, rashan, paani hoga
netaji, khub karte ho majaak ki baat

‘pradeep’ ye hai andho ki basti
koi suntan nahi chiraag ki baat –Pradeep Tiwari

Post a Comment Blogger

 
Top