0
मोर्चा सर हो गया
मोर्चा सर हो गया

उनका दावा मुफलिसी का मोर्चा सर हो गया पर हकीकत ये है मौसम और बदतर हो गया बंद कल को क्या किया मुखिया के खेतों में बेगार अगले दिन ही एक ह...

Read more »

0
वो सर्द फासला बस आज कटने वाला था
वो सर्द फासला बस आज कटने वाला था

वो सर्द फासला बस आज कटने वाला था मै इक चराग की लौं से लिपटने वाला था बहुत बिखेरा मुझे मेरे मेहरबानो ने मीरा वजूद ही लेकिन सिमटने वाला थ...

Read more »

1
पत्थर सुलग रहे थे कोई नक़्शे-पा न था- मुमताज़ राशिद
पत्थर सुलग रहे थे कोई नक़्शे-पा न था- मुमताज़ राशिद

पत्थर सुलग रहे थे कोई नक़्शे-पा न था हम जिस तरफ चले थे, उधर रास्ता न था परछाईयो के शहर में तन्हाईयां न पूछ अपना शरीके-गम कोई अपने सिवा न...

Read more »

0
न आरजू न तमन्ना, कहाँ चले आये - अहमद हमदानी
न आरजू न तमन्ना, कहाँ चले आये - अहमद हमदानी

न आरजू न तमन्ना, कहाँ चले आये थकन से चूर ये तनहा कहाँ चले आये रुकी-रुकी सी हवाए घुटा-घुटा माहौल ये रात-रात अँधेरा कहाँ चले आये घरोंदा ...

Read more »

0
जज्बात की आवाज - कृष्ण बिहारी नूर
जज्बात की आवाज - कृष्ण बिहारी नूर

जिसका कोई नहीं उसका तो खुदा है यारो मै नहीं कहता किताबो में लिखा है यारो अमिताभ बच्चन की आवाज में यह शेर भारत के बच्चे-बच्चे की जुबान...

Read more »
 
 
Top