0
अगरचे देखने में सो रहा था
मगर अंदर से मै जागा हुआ था

कहा तक हम उसे जाते बुलाने
वो काफी देर पहले जा चूका था

अब आया है तो आने दो, न रोको
हमारे पास से उठकर गया था

वही जागी हुई बेनूर आँखे
वही ख्वाबो का लंबा सिलसिला था

नदी हर शाम को जाती थी लेकिन
समुन्दर था कि शब् भर जागता था

परिंदे बारी-बारी उड़ रहे थे
मगर इक मुस्तकिल बैठा हुआ था

वही बाते है लेकिन हस रहा हू
जिन्हें सुनकर मै एक दिन रो पड़ा था - शमीम फारुकी

Roman

agarache dekhne me so raha tha
magar andar se mai jaaga hua tha

kahaa tak ham use jaate bulaane
wo kaafi der pahle jaa chuka tha

ab aaya hai to aane do, n roko
hamare paas se uthkar gaya tha

wahi jaagi hui benur aankhe
wahi khwabo ka lamba silsila tha

nadi har shaam ko jaati thi lekin
samundar tha ki shab bhar jaagta tha

parinde baari-baari ud rahe the
magar ek mustkil baitha hua tha

wahi baate hai lekin has raha hu
jinhe sunkar mai ik din ro pada tha - Shamim Faruqi

Post a Comment Blogger

 
Top