0
मीना कुमारी का कल यानी एक अगस्त को जन्मदिवस था उनके जन्मदिवस पर यह आज़ाद नज़्म पेश है -

कितनी लालची हूँ मै
कितने ढेर सरे लम्हे जमा कर रखे है
फिर भी
बौखलाई हुई
ढूंढती फिर रही हू
चुन-चुनकर इन्हें समेटती फिर रही हूँ
कही 'यह' न छुट जाए
कही 'वह' छुट न जाए
यह सबके सब
इकठ्ठे करके
अपने आप में भर लूं
छुपा लू
किसी को न दूं
कंजूस की तरह
इन्हें बस
तहखानो में रख दू...
कितनी लालची हूँ ना मै? - मीना कुमारी 'नाज़"

Roman

kitni lalchi hu mai
kitne dher sare lamhe jamaa kar rakhe hai
fir bhi
boukhlaai hui
dhundhti fir rahi hun
chun-chunkar inhe sametti fir rahi hun
kahi 'yah' chhut n jaye
kahi 'wah' chhut n jaye
yah sabke sab
ikththe karke
apne aap me bhar lun
chhupa lu
kisi ko n dun
kanjud ki tarah
inhe bas
tahkhano me rakh du...
kitni lalchi hu na mai? - Meena Kumari 'Naaz'

Post a Comment Blogger

 
Top