0
कुछ यादगारे-शहरे-सितमगर ही ले चले
आए है इस गली में तो पत्थर ही ले चले

यु किस तरह कटेगा कड़ी धुप का सफर
सर पर ख्याले-यार की चादर ही ले चले

रंजे-सफर की कोई निशानी तो पास हो
थोड़ी सी ख़ाक-ऐ-कुचा-ऐ-दिलबर ही ले चले

ये कह के छेड़ती है हमें दिलगिरफ्तगी
घबरा गए है आप तो बाहर ही ले चले

इस शहरे-बेचराग में जाएगी तू कहा
आ ऐ शबे-फ़िराक तुझे घर ही ले चले - नासिर काजमी

मायने
रंज=दुख, ख़ाक-ऐ-कुचा-ऐ-दिलबर=दिलबर की गली की धुल, शबे-फ़िराक=जुदाई की रात

Roman

kuch yaadgare-shahre-sitamgar hi le chale
aae hai is gali me to patthar hi le chale

yu kis tarah katega kadi dhoop ka safar
sar par khyaal-e-yaar ki chaadar hi le chale

ranje-safar ki koi nishani to paas ho
thodi si khaak-e-kucha-e-dilbar hi le chale

ye kah ke chhedti hai hame dilgirftgi
ghabra gae hai aap to baahar hi le chale

is shahar-e-bechrag me jaaegi tu kahaa
aa e shabe-firaq tujhe ghar hi le chale - Naasir Kazmi

Post a Comment Blogger

 
Top