0
आँख जब आईने से हटाई
श्याम सुन्दर से राधा मिल आई

आये सपनो में गोकुल के राजा
देने सखियों को आयी बधाई

प्रेम-जल खूब गागर में भर लू
आज बादल ने माया लुटाई

किसको पनघट पे जाने की जिद थी
किससे गागर ने विनती कराई

ओक से पानी बहने लगा तो
प्यास गिरधर की कैसे बुझाई

अब तो जल का ही आँचल बना लू
पद पर क्यों चुनरिया सुखाई

उस ही बालक से निंदिया मिलेगी
जिसने माथे की बिंदिया चुराई

रंग डाली मेरी आत्मा तक
क्या मनोहर के मन में समाई

मैंने सखियों को कब कुछ बताया
बैरी पायल ने ही जा लगाईं

गोपियों से भी खेले कन्हैया
और हमसे भी मीठी लड़ाई

कोई खुशबु तो अच्छी लगेगी
फुल भर भर के आँचल में लाई

श्याम ! मै तौरी गैया चराऊ
मोल ले ले तू मेरी कमाई

कृष्ण गोपाल रास्ता ही भूले
राधा प्यारी तो सुध भूल आई

सारे सुर एक मुरली की धुन में
ऐसी रचना भला किसने गाई

कैसा बंधन बंधा श्याम मोरे
बात तेरे समझ में न आई

हाथ फूलो से पहले बने थे
या कि गजरे से फूटी कलाई - परवीन शाकिर

[slider title="In Roman"]

aankh jab aaine se hatai
shyaam sundar se radha mil aayi

aaye sapno me gokul ke raaja
dene sakhiyo ko aayi badhai

prem-jal khub gaagar me bhar lu
aaj baadal ne maaya lutai

kisko panghat pe jaane ki jid thi
kisse gaagar ne vinti karai

ok se paani bahne laga to
pyaas girdhar ki kaise bujhai

ab to jal ka hi aanchal bana lu
ped par kyo chunriya sukhai

us hi baalak se nindiya milegi
jisne maathe ki bindiya churai

rang daali meri aatma tak
kya manohar ke man me samaai

maine sakhiyo ko kab kuch bataya
bairi paayal ne hi ja lagaai

gopiyo se bhi khele kanhaiya
aur hamse bhi mithi ladai

koi khushbu to achchi lagegi
ful bhar-bhar ke aanchal me laayi

shyaam ! mai touri gaiya charau
mol le le tu meri kamaai

krishna gopal rasta hi bhule
radha pyari to sudh bhul aayi

saare sur ek murli ki dhun me
aisi rachna bhala kisne gaayi

kaisa bandhan bandha shyam more
baat tere samajh me n aayi

haath fulo se pahle bane the
ya ki gajre se futi kalaai - Parween Shakir[/slider]

Post a Comment Blogger

 
Top