1
दुख का अहसास न मारा जाये
आज जी खोल के हारा जाये

इन मकानों में कोई भूत भी है
रात के वक्त पुकारा जाये

सोचने बैठे तो इस दुनिया में
एक लम्हा न गुजारा जाये

ढूंढता हू मै ज़मी अच्छी-सी
ये बदन जिसमें उतारा जाये

साथ चलता हुआ साया अपना
एक पत्थर इसे मारा जाये - मुहम्मद अलवी


[slider title="In Roman"]
dukh ka ahsaas n maara jaye
aaj ji khol ke haara jaye

in makaano me koi bhut bhi hai
raat ke wakt pukara jaye

sochne baithe to is duniya me
ek lamha n gujara jaye

dhundhta hu mai zamin achchi-si
ye badan jisme utara jaye

saath chalta hua saaya apna
ek patthar ise maara jaye- Muhmmad Alwi[/slider]

Post a Comment Blogger

  1. बढिया गज़ल है तमाम अश आर उम्दा काबिले दाद हैं शुक्रिया .

    ReplyDelete

 
Top