0
चाँद सितारों से क्या पुछूँ कब दिन मेरे फिरते हैं
वो तो बेचारे ख़ुद हैं भिखारी डेरे डेरे फिरते हैं

जिन गलियों में हम ने सुख की सेज पे रातें काटी थीं
उन गलियों में व्याकुल होकर साँझ सवेरे फिरते हैं

रूप-सरूप की जोत जगाना इस नगरी में जोखिम है
चारों खूँट बगूले बन कर घोर अन्धेरे फिरते हैं

जिन के शाम-बदन साये में मेरा मन सुस्ताया था
अब तक आँखों के आगे वो बाल घनेरे फिरते हैं

कोई हमें भी ये समझा दो उन पर दिल क्यों रीझ गया
तीखी चितवन बाँकी छब वाले बहुतेरे फिरते हैं

इस नगरी में बाग़ और बन की यारो लीला न्यारी है
पंछी अपने सर पे उठाकर अपने बसेरे फिरते हैं

लोग तो दामन सी लेते हैं जैसे हो जी लेते हैं
“आबिद” हम दीवाने हैं जो बाल बिखेरे फिरते हैं - आबिद अली आबिद

Roman
chand sitaro se kya puchu kab din mere firte hai
wo to bechare khud hai bikhari, dere-dere firte hai

jin galiyo me ham ne sukh ki sej pe raate kaati thi
un galiyo me vyakul hokar saanjh sawere firte hai

roop-saroop ki jot jagana is nagari me jokhim hai
chaaro khut bagule ban kar ghor andhere firte hai

jin ke shaam-badan saaye me mera man sustaya tha
ab tak aankho ke aage wo bal ghanere firte hai

koi hame bhi ye samjha do un par dil kyo rijh gya
tikhi chiwan baanki chab wale bahutere firte hai

is nagri me baag aur ban ki yaaro leela nyari hai
panchi apne sar pe uthakar apne basere firte hai

log daman si lete hai jaise ho ji lete hai
'Abid' ham deewane hai jo baal bikhere firte hai - Abid Ali Abid

Post a Comment Blogger

 
Top