0
धुन ये है आम तेरी राहगुजर होने तक
हम गुजर जाये जमाने को खबर होने तक

मुझको अपना जो बनाया है, तो एक और करम
बेखबर कर दे जमाने को खबर होने तक

अब मुहब्बत की जगह दिल में गमें-दौरा है
आईना टूट गया तेरी नजर होने तक

जिंदगी रात है, मै रात का अफसाना हू
आप से दूर ही रहना है सहर होने तक

जिंदगी के मिले आसार तो कुछ ज़िंदा में
सर ही टकराइए, दीवार में दर होने तक- कृष्ण बिहारी नूर

मायने
राहगुजर=रास्ता, गमें-दौरा=दुनिया के गम, ज़िंदा=जेलखाना

[slider title="In Roman"]
dhun ye hai aam teri raahgujar hone tak
ham gujar jaye jamaane ko khabar hone tak

mujhko apna jo banaya hai, to ek aur karam
bekhabar kar de jamaane ko khabar hone tak

ab muhbbat ki jagah dil me game-doura hai
aaina tut gaya teri najar hone tak

jindgi raat hai, mai raat ka afsana hu
aap se door hi rahna hai sahar hone tak

jindgi ke mile aasaar to kuch zindan me
sar hi takraaiye, deewar me dar hone tak- Krishn Bihari Noor[/slider]

Post a Comment Blogger

 
Top