1
मेरे पहलू में जो बह निकले तुम्हारे आंसू,
बन गए शामे-मोहब्बत के सितारे आंसू |

देख सकता है भला कौन ये प्यारे आंसू,
मेरी आँखों में न आ जाए तुम्हारे आंसू |

अपना मुह मेरे गिरेबां में छुपाती क्यों हो,
दिल की धडकन कही सुन ले न तुम्हारे आंसू |

मेह की बूंदों की तरह हो गए सस्ते क्यों आज?
मोतियों से कही महंगे थे तुम्हारे आसू |

साफ़ इकरारे-मोहब्बत हो जबां से क्योकर,
आँख में आ गए यू शर्म के मारे आंसू |

हिज्र अभी दूर है, मै पास हू, ऐ जाने-वफ़ा,
क्यों हुए जाते है बैचेन तुम्हारे आंसू |

सुबह-दम देख न ले कोई ये भीगा आँचल,
मेरी चुगली कही खा दे न तुम्हारे आंसू |

दमे-रुखसत है क़रीब, ऐ गमे-फुरकत खुश हो,
करने वाले है जुदाई के इशारे आंसू |

सदके उस जाने-मोहब्बत के मै ‘अख्तर’ जिसके,
रात भर बहते रहे शौक के मारे आंसू - अख्तर शिरानी
मायने
हिज्र=जुदाई, सुबह-दम=सुबह के वक्त, दमे-रुख्सत=विदाई का समय, गमे-फुरकत=जुदाई का गम, जाने-मोहब्बत के=प्रेम के जीवन (प्रेयसी) के

Roman


Mere pahlu me jo bah nikle tumhare aansu,
Ban gaye shame-mohbbat ke sitare aansu.

Dekh sakta hai bhala koun ye pyare aansu,
Meri aankho me n aa jaye tumhare aansu.

Apna muh mere girebaan me chhupati kyo ho,
Dil ki dhadkan kahi sun le n tumhare aansu.

meh ki bundo ki tarah ho gaye saste kyo aaj?
motiyon se kahi mahnge the tumhare aansu.

Saaf iqrare-mohbbat ho jabaan se kyokar,
Aankh me aa gaye yu sharm ke mare aansu.

Hijr abhi door hai, mai paas hu, ae jaane-wafaa,
Kyo hue jaate hai baichen tumhare aansu.

Subah-dam dekh n le koi ye bheega aanchal,
Meri chugli kahi kha de n tumhare aansu.

Dame-rukhsat hai kareeb, ae game-furkat khush ho,
Karne waale hai judai ke ishare aansu.

Sadke us jaane-mohbbat ke mai ‘Akhtar’ jiske,
Raat bhar bathe rahe shouk ke mare aansu.- Akhtar Sheerani

Post a Comment Blogger

 
Top