0
किसी किसी को वो ऐसा जमाल देता है
जो आईने को भी हैरत में डाल देता है

वो दौर आया कि नन्हा सा एक जुगनू भी
चमकते चाँद में गलती निकाल देता है

अगर किसी से मैं पूछूं कि ये ग़ज़ल क्या है
हरेक शख्स तो तेरी मिसाल देता है

मेरा ज़मीर ही रहबर मेरी खुदी का है
कभी गिरुं तो ये मुझको संभाल देता है

खुदा किसी को मुकम्मल ख़ुशी नहीं देता
हर इक हंसी में वो आंसू भी डाल देता है- अजय पाण्डेय 'सहाब'

मायने
जमाल=खूबसूरती, रहबर=गाइड

Roman

kisi kisi ko wo aisa jamaal deta hai
ko aaine ko bhi hairat me daal deta hai

wo dour aaya ki nanha sa ek jugnu bhi
chamkte chaand me galti nikaal deta hai

agar kisi se mai puchhu ki ye ghazal kya hai
harek shakhs to meri misal deta hai

mera zameer hi rahbar meri khudi ka hai
kabhi giroo to ye mujhko sambhal deta hai

khuda kisi ko mukmmal khushi nahi deta
har ek hasi me wo aansu bhi daal deta hai- Ajay Pandey 'Sahaab'

Post a Comment Blogger

 
Top