0
तुझे खोकर भी तुझे पाऊ जहाँ तक देखूँ
हुस्ने-यज़दां से तुझे हुस्ने-बुताँ तक देखू

तुने यूँ देखा है जैसे कभी देखा ही न था
मै तो दिल में तेरे कदमों के निशाँ तक देखूँ

सिर्फ इस शौक से पूछी है हजारों बातें
मै तेरा हुस्न, तेरे हुस्ने-बयाँ तक देखूँ

मेरे वीरानाए-जाँ में तेरी यादो के तुफैल
फुल खिलते नज़र आते है जहा तक देखूँ

वक्त ने ज़ेहन में धुंधला दिये तेरे खंन्दो-खाल
यूँ तो मै टूटते तारों का धुआँ तक देखूँ

दिल गया था तो ये आँखे भी कोई ले जाता
मै फक़त एक ही तस्वीर कहाँ तक देखूँ

इक हकीक़त सही, फिरदोस में हूरों का वजूद
हुस्ने-इंसा से निबट लू तो वहा तक देखूँ - अहमद नदीम कासमी

मायने

हुस्ने-यज़दां=नेकी करने वाला खुदा का सौंदर्य, हुस्ने-बुताँ=मूर्तियों का सौंदर्य, हुस्ने-बयाँ=वाणी की मिठास, वीरानाए-जाँ=वीरान दिल, तुफैल=संयोग, खंन्दो-खाल=गाल और गाल का तिल, फिरदोस=स्वर्ग, हूरों=अप्सराए, हुस्ने-इंसा= इंसान का सौंदर्य

Roman
Tujhe khokar bhi tujhe paau jahaan tak dekhun
husne-yazda se tujhe husne-butaan tak dekhun

tune yun dekha hai kabhi dekha hi na tha
mai to dil me tere kadmo ke nisha tak dekhun

sirf is shouk se puchhi hai hazaro baate
mai tera husn, tere husne-bayaan tak dekhun

mere veeranaae-jaan me teri yaado ke tufail
phool khilte nazar aate hai jahaa tak dekhun

waqt ne zehan me dhundhla diye tere khando-khaal
tu to mai tutate hue taaro ka dhuaan tak dekhun

dil gaya tha to ye aankhe bhi koi le jaata
mai faqt ek hi tasweer kahaan tak dekhun

ek haqiqat sahi, firdos me hooron ka wajud
husne-insa se nibat lu to wahaa tak dekhu- Ahmad Nadeem Qasmi

Post a Comment Blogger

 
Top