0
झूठी सच्ची आस पे जीना कब तक आखिर कब तक
मय की जगह खून-ए-दिल पीना कब तक आखिर कब तक

सोचा है अब पार उतरेंगे या टकरा कर डूब मरेंगे
तुफानो की ज़द पे सफीना कब तक आखिर कब तक

एक महीने के वादे पर साल गुजारा फिर भी ना आये
वादे का ये एक महीना कब तक आखिर कब तक

सामने दुनिया भर के गम है और इधर एक तन्हा हम है
सैकडो पत्थर एक आईना कब तक आखिर कब तक - काशिफ़ इंदोरी

In Roman
jhuThi sachchi aas pe jina kab tak aaKhir kab tak
may ki jagah Khun-e-dil pina kab tak aaKhir kab tak

socha hai ab paar utarenge ya Takara kar Dub marenge
tuufano ki zad pe safina kab tak aaKhir kab tak

ek mahine ke vaade par saal guzara fir bhi na aaye
vaade ka ye ek mahina kab tak aaKhir kab tak

samane duniya bhar ke Gam hai aur idhar ik tanaha ham hai
sekdo patthar ik aaina kab tak aaKhir kab tak -Kasif Indori[/slider]



Download

Post a Comment Blogger

 
Top