1
मै यह नहीं कहता कि मेरा सर न मिलेगा
लेकिन मेरी आँखों में तुझे डर न मिलेगा

सर पर तो बिठाने को है तैयार जमाना
लेकिन तेरे रहने को यहाँ घर न मिलेगा

जाती है, चली जाये, ये मैखाने कि रौनक
कमज़र्फो के हाथो मै तो सागर न मिलेगा

दुनिया की तलब है, कनाअत ही न करना
कतरे ही से खुश हो, तो समन्दर न मिलेगा - वसीम बरेलवी

मायने
कमज़र्फो=हलके लोग, कनाअत=संतोष

Post a Comment Blogger

 
Top