0
बाहर गली में आ गए, घर अपना छोड़ कर
आजाद कितने हो गए, आईने तोड़ कर

हमको सदफ़ मिले कि हज़फ़, देखते रहो
कुलजुम से आ मिले है, सफीनों को छोड़ कर

ताक़त को आज़मा तो लिया, दोस्तों ने भी,
अपने ही दोस्तों कि कलाई मरोड कर

माँ की तरह, वतन ने गले से लगा लिया,
लौटे दयारे-गैर से जब पाँव तोड़ कर

यादो कि खुशबुओ के सिवा, घर में कुछ न था
दीवारों-दर से रह गए, सर अपना फोड कर

थे कितने खुद-शनास कि गर्दिश जहा की भी,
गुजरी है पास-पास से, रुख मोड-मोड कर

चलते रहे टटोल के जर्रो क दिल, 'जमील'
रस्ते ही में गिरे, जो गए भाग-दौड़ कर - 'जमील' मलिक
मायने
सदफ़=सीपिया, हज़फ़=विलगता/निराशा, कुलजुम=कश्ती/नाव, सफीनों=सागर/दरिया, दयारे-गैर=प्रतिद्वदी का क्षेत्र, खुद-शनास=आत्म प्रतिबिंबित
[slider title="In Roman"]
baahar gali me aa gaye, ghar apna chhod kar
aajad kitne ho gaye, aaine tod kar

hamko sadaf mile ki hazaf, dekhte raho
kulzum se aa mile hai, safino ko chhod kar

taakt ko aajna to liya, dosto ne bhi
apne hi dosto ki kalaai marod kar

maa ki tarah, watan ne gale se laga liya
loute dayaare-gair se jab paanv tod kar

yaado ki khushbuo ke siwa, ghar me kuch n tha
deewaro-dar se rah gaye, sar apna fod kar

the itne khud shanaas ki gardish jahaa ki bhi
gujri hai paas-paas se, rukh mod-mod kar

chalte rahe tatol ke jarro ka dil, 'Jamil'
raste hi me gire, jo gaye bhaag-doud kar- Jamil Malik[/slider]

Post a Comment Blogger

 
Top