0
मुझको छूके पिघल रहे हो तुम
मेरे हमराह जल रहे हो तुम

चाँदनी छन रही है बादल से
जैसे कपडे बदल रहे हो तुम

पायलें बज रही है रह-रह के
ये हवा है के चल रहे हो तुम

नींद भी टूटने से डरती है
मेरे ख्वाबो में ढल रहे हो तुम- शकील आज़मी

इस ग़ज़ल को हरिहरन ने अपनी सुन्दर आवाज में गाया है इसे सुनते है :-



Roman

mujhko chhuke pighal rahe ho tum
mere hamraah jal rahe ho tum

chandni chhan rahi hai baadal se
jaise kapde badal rahe ho tum

payle baj rahi hai rah-rah ke
ye hawa hai ke chal rahe ho tum

nind bhi tutne se darti hai
mere khwabo me dhal rahe ho tum - Shakeel Aazmi

Post a Comment Blogger

 
Top