0
यु तो हसते हुए लडको को भी गम होता है
कच्ची उम्र में मगर तजुर्बा कम होता है

सिगरेटे, चाय, धुआँ, रात गए तक बहसें
और कोई फूल सा आँचल कही नम होता है

इस तरह रोज हम एक खत उसे लिख देते है
की ना कागज, ना स्याही, ना कलम होता है

वक्त हर ज़ुल्म तुम्हारा तुम्हे लौटा देगा
वक्त के पास कहा रहमो-करम होता है – वली आसी

Roman
yu to haste hue ladko ko bhi gam hota hai
kachchi umr me magar tajurba kam hota hai

sigrete, chay, dhuaan, raat gaye tak bahse
aur koi phool sa aanchal kahi nam hota hai

is tarah roz ham ek khat use likh dete hai
ki naa kaghaz, naa syahi, naa kalam hota hai

waqt har zulm tumhara tumhe louta dega
waqt ke paas kahaa rahmo-karam hota hai- Wali aasi

Post a Comment Blogger

 
Top