0
जब कभी बोलना, वक़्त पर बोलना
मुद्दतों बोलना, मुख़्तसर बोलना

डाल देगा हलाक़त में, इक दिन तुझे
ऐ परिन्दे तेरा, शाख़ पर बोलना

पहले कुछ दूर तक, साथ चल के परख
फिर मुझे हमसफ़र, हमसफ़र बोलना

उम्र भर को मुझे बेसदा कर गया
तेरा इक बार, मूँह फेर कर बोलना

मेरी ख़ानाबदोशी से पूछे कोई
कितना मुश्किल है, रस्ते को घर बोलना

क्यूँ है ख़ामोश सोने की चिड़िया बता
लग गई तुझ को, किस की नज़र बोलना – ताहिर फ़राज़

Roman

Jab kabhi Bolna, waqt par bolna
muddto bolna, mukhtsar bolna

dal dega halakat me, ik din tujhe,
ae parinde tera,shakh par bolna

pahle kuch door tak, sath chal ke parakh
phir mujhe hamsafar, hamsafar bolna

umr bhar ko mujhe besada kar gaya
tera ik bar, muh fer kar bolna

meri khanabadoshi se puche koi
kitna mushkil hai, raste ko ghar bolna

kyu hai khamosh sone ki chidiya bata
lag gayi tujhko, kis kiski najar bolna - Tahir Faraz
#Jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top