0
सुकूने दिल के लिए इश्क तो बहाना था,
वगरना थक के कही तो ठहर जाना था

जो इज्तिराब का मौसम गुजर आये है,
वो जानते है कि वहशत का क्या जमाना था

वो जिनको शिकवा था औरो से जुल्म सहने का
खुद उनका अपना भी अंदाज जारिहाना था

बहुत दिनों से मुझे इन्तिजारे-शब भी नहीं
वो रुत गुजर गई, हर ख्वाब जब सुहाना था

कब उसकी फतह कि ख्वाहिश को जीत सकती थी
मै वो फरीक हू, जिसको की हार जाना था – फातिमा हसन
मायने
वगरना=वरना, इज्तिराब=व्याकुलता, वहशत=भय, जारिहाना=हिंसापूर्ण, फरीक=पक्ष, वादी-प्रतिवादी

Roman
sukune dil ke liye ishq to ek bahana tha
vagrana thak ke kahi to thahar jana tha

jo ijtirab ka mousam gujar aaye hai
wo jante hai ki wahshat ka kya jamana tha

wo jinko shikwa tha aur se julm sahne ka
khud unka apna bhi andaj zahirana tha

bahut dino se mujhe intijare-shab bhi nahi
wo rut gujar gayi, har khwab jab suhana tha

kab uski fatah ki khwahish ko jeet sakti thi
mai wo farik hu, jisko ki haar jana tha - Fatima Hasan
#Jakhira 

Post a Comment Blogger

 
Top