0
बयान-ए-शहरयार - नौमान शौक
बयान-ए-शहरयार - नौमान शौक

शहरयार साहब को पिछले हफ्ते ज्ञान पीठ पुरस्कार मिला तो उनके बारे में लिखा गया नौमान शौक का पुराना लेख आपके लिये पेश है:- शहरयार का नाम ग़ज़ल ...

Read more »

0
ए नौजवाने-बेअमल- दिलावर फिगार
ए नौजवाने-बेअमल- दिलावर फिगार

ए नौजवाने-बेअमल, मायूस क्यों है आजकल सर्विस नहीं मिलती तुझे, सर्विस पे लानत भेज दे एम. ए. की डिग्री फाड दे, गर्दे-नहूसत झाड दे सर पर अंगोछा ...

Read more »

0
गर कलम न छीनी गई -नीरज
गर कलम न छीनी गई -नीरज

गर कलम न छीनी गई तो हिन्दुस्तान बदलकर छोडूँगा! इंसान है क्या मै दुनिया का भगवान बदलकर छोडूँगा!! मै देख रहा हू भूख उग रही है गलियों बाजारों म...

Read more »

2
पढ़ा लिखा अगर होता खुदा अपना - गुलज़ार
पढ़ा लिखा अगर होता खुदा अपना - गुलज़ार

मै जितनी भी जबाने जानता हू वो सारी आजमाई है खुदा ने एक भी समझी नहीं अब तक ना वो गर्दन हिलाता है, न हुंकार ही भरता है कुछ ऐसा सोचकर शाय...

Read more »

1
चुपके-चुपके रात-दिन आंसू बहाना याद है - हसरत मोहानी
चुपके-चुपके रात-दिन आंसू बहाना याद है - हसरत मोहानी

चुपके चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है, हमको अब तक आशिक़ी का वो ज़माना याद है, बाहज़ारां इज़्तिराब-ओ-सदहज़ारां इश्तियाक, तुझसे वो पहले पहल दि...

Read more »

0
दाग दुनिया ने दिए- कैफ भोपाली
दाग दुनिया ने दिए- कैफ भोपाली

दाग दुनिया ने दिए, जख्म जमाने से मिले हमको तोहफे ये तुम्हें दोस्त बनाने से मिले हम तरसते ही, तरसते ही, तरसते ही रहे, वो फलाने से, फलाने...

Read more »
 
 
Top