0
लम्हा-लम्हा जीना क्या - मीना कुमारी
लम्हा-लम्हा जीना क्या - मीना कुमारी

लम्हा-लम्हा जीना क्या और लम्हा-लम्हा मरना क्या साथ तुम्हारा, साथ हमारे अगर रहे तो कहना क्या हम-तुम दोनों एक छंद है शायर जिनको भूल गया ...

Read more »

0
खुद अपने हुस्न को परदा बना लेती तो अच्छा था - मजाज़ लखनवी
खुद अपने हुस्न को परदा बना लेती तो अच्छा था - मजाज़ लखनवी

हिजाबे फतना परवर अब उठा लेती तो अच्छा था। खुद अपने हुस्न को परदा बना लेती तो अच्छा था तेरी नीची नजर खुद तेरी अस्मत की मुहाफज है। तू ...

Read more »

0
परिचय - परवीन शाकिर Parveen Shakir
परिचय - परवीन शाकिर Parveen Shakir

परवीन शाकिर पकिस्तान की नयी उर्दू शायरी में एक अहम् मुकाम रखती है | आपका जन्म 24 नवम्बर, 1952 को शाकिर हुसैन के घर कराची सिंध, पकिस्तान ...

Read more »

1
लोग जिसको ताज पहनाने चले - चाँद शेरी
लोग जिसको ताज पहनाने चले - चाँद शेरी

लोग जिसको ताज पहनाने चले हाथ अपने खुद ही बंधवाने चले मंदिरों के मस्जिदों के आदमी बस्तिया यूं ही उजडवाने चले चंद सिक्को के लिए वो सि...

Read more »

0
आदमी खुद भी सवरता है ग़ज़ल कहने में - महमूद जकी
आदमी खुद भी सवरता है ग़ज़ल कहने में - महमूद जकी

हुस्न-ए-अहसास निखरता है ग़ज़ल कहने में आदमी खुद भी सवरता है ग़ज़ल कहने में लम्हा बीता के सदी बीत गई हो जैसे वक़्त ऐसे भी गुजरता है ग़ज़ल कहने ...

Read more »

1
सारे जहा से अच्छा हिंदोस्ता हमारा - इक़बाल
सारे जहा से अच्छा हिंदोस्ता हमारा - इक़बाल

शहीद भगत सिंह पर लिखी हुए शेर तो नहीं मिले पर इकबाल साहब की यह ग़ज़ल पेश है | भगत सिंह , राजगुरु और सुखदेव को मेरी और से यह श्रंद्धाजलि ...

Read more »

1
आदमी बुलबुला है पानी का - गुलज़ार
आदमी बुलबुला है पानी का - गुलज़ार

आदमी बुलबुला है पानी का और पानी की बहती सतह पर टूटता भी है, डूबता भी है, फिर उभरता है, फिर से बहता है, न समंदर निगला सका इसको, न तवारीख़ ...

Read more »

1
बात निकलेगी तो फिर दूर तलक जाएगी - कफ़ील आज़र
बात निकलेगी तो फिर दूर तलक जाएगी - कफ़ील आज़र

बात निकलेगी तो फिर दूर तलक जाएगी लोग बेवजह उदासी का सबब पूछेंगे ये भी पूछेंगे कि तुम इतनी परेशां क्यूं हो उगलियां उठेंगी सूखे हुए बालों ...

Read more »

1
कभी नेकी भी उसके जी में गर आ जाये मुझसे
कभी नेकी भी उसके जी में गर आ जाये मुझसे

कभी नेकी भी उसके जी में गर आ जाये मुझसे ज़फाए करके अपनी याद शर्मा जाये है मुझसे खुदाया ! ज़ज्बा-ए-दिल की मगर तासीर उलटी है की जितना खिचता हु...

Read more »

4
किसने भीगे हुए बालों से ये झटका पानी - आरज़ू लखनवी
किसने भीगे हुए बालों से ये झटका पानी - आरज़ू लखनवी

किसने भीगे हुए बालों से ये झटका पानी, झूम कर आई घटा, टूट के बरसा पानी कोई मतवाली घटा थी के जवानी की उमंग, जी बहा ले गया बरसात का पहला...

Read more »

1
हिंद के गुलशन में जब आती है होली की बहार - नज़ीर अकबराबादी
हिंद के गुलशन में जब आती है होली की बहार - नज़ीर अकबराबादी

हिंद के गुलशन में जब आती है होली की बहार ज़फिशानी चाही कर जाती है होली की बहार एक तरफ से रंग पड़ता, एक तरफ उड़ता गुलाल ज़िन्दगी की लज्जते ला...

Read more »

1
तब देख बहारे होली की - नज़ीर अकबराबादी
तब देख बहारे होली की - नज़ीर अकबराबादी

होली के पवन अवसर पर पेश है नजीर अकबराबादी की होली आधारित यह नज्म पढ़े और लुत्फ़ ले, आप सभी को होली की अग्रिम बधाईया जब फागुन रंग झमकते ह...

Read more »

0
तुमको देखा तो ये ख़याल आया  - जावेद अख्तर
तुमको देखा तो ये ख़याल आया - जावेद अख्तर

तुमको देखा तो ये ख़याल आया ज़िन्दगी धूप तुम घना साया आज फिर दिल ने एक तमन्ना की आज फिर दिल को हमने समझाया तुम चले जाओगे तो सोचेंगे हम...

Read more »

0
परिचय - Mehr Lal Soni Zia Fatehabadi मेहर लाल सोनी ज़िया फतेहाबादी
परिचय - Mehr Lal Soni Zia Fatehabadi मेहर लाल सोनी ज़िया फतेहाबादी

मेहर लाल सोनी का जन्म आपके मामा लाला शंकर दास पुरी के घर कपूरथला में सुबह के वक़्त 9 फरवरी 1913 को हुआ, आप अपने पिता के ज्येष्ठ पुत्र ...

Read more »

5
दोस्ती बाक़ी नहीं तो दुश्मनी बाक़ी रहे - अहमद निसार
दोस्ती बाक़ी नहीं तो दुश्मनी बाक़ी रहे - अहमद निसार

हो तअल्लुक़ तुझसे जब तक ज़िन्दगी बाक़ी रहे दोस्ती बाक़ी नहीं तो दुश्मनी बाक़ी रहे हो न जाऊँ मैं कहीं मग़रूर ए मेरे ख़ुदा यूँ मुकम्मल कर मुझे...

Read more »

0
दिल चीज़ क्या है आप मेरी जान लीजिये - शहरयार
दिल चीज़ क्या है आप मेरी जान लीजिये - शहरयार

दिल चीज़ क्या है आप मेरी जान लीजिये बस एक बार मेरा कहा मान लीजिये इस अंजुमन में आपको आना है बार-बार दीवार-ओ-दर को ग़ौर से पहचान लीजिये ...

Read more »

0
दर्द से मेरा दामन भर दे या अल्लाह - क़तील शिफाई
दर्द से मेरा दामन भर दे या अल्लाह - क़तील शिफाई

दर्द से मेरा दामन भर दे या अल्लाह ! फिर चाहे दीवाना कर दे या अल्लाह ! मैनें तुझसे चाँद सितारे कब माँगे रौशन दिल बेदार नज़र दे या अल्लाह...

Read more »

1
काश ऐसा कोई मंज़र होता - ताहिर फ़राज़
काश ऐसा कोई मंज़र होता - ताहिर फ़राज़

काश ऐसा कोई मंज़र होता मेरे काँधे पे तेरा सर होता जमा करता जो मै आये हुए संग सर छुपाने के लिए घर होता इस बुलंदी पे बहुत तनहा हु काश...

Read more »

4
अजनबी दुनिया में तेरा आशना मै ही तो था - मेहर लाल ज़िया फतेहाबादी
अजनबी दुनिया में तेरा आशना मै ही तो था - मेहर लाल ज़िया फतेहाबादी

अजनबी दुनिया में तेरा आशना मैं ही तो था दी सज़ा तू ने जिसे वो बेख़ता मैं ही तो था मैं जो टूटा हो गया हंगामा ए महशर बपा तार ए साज़ ए बे...

Read more »

0
आग इस घर को लगी ऐसी की जो था जल गया
आग इस घर को लगी ऐसी की जो था जल गया

दिल मेरा सोजे-निहा से बेमहाबा जल गया आतिशे-खामोश की मानिंद गोया जल गया दिल में जौके-वस्लो-यादे-यार तक बाकी नहीं आग इस घर को लगी ऐसी की जो था...

Read more »

3
सदमा तो है मुझे भी कि तुझसे जुदा हूँ मैं - क़तील शिफाई
सदमा तो है मुझे भी कि तुझसे जुदा हूँ मैं - क़तील शिफाई

सदमा तो है मुझे भी कि तुझसे जुदा हूँ मैं लेकिन ये सोचता हूँ कि अब तेरा क्या हूँ मैं बिखरा पड़ा है तेरे ही घर में तेरा वजूद बेकार महफ...

Read more »

1
जिंदगी क्या जो डर गई होगी - मेहर लाल ज़िया फतेहाबादी
जिंदगी क्या जो डर गई होगी - मेहर लाल ज़िया फतेहाबादी

मौज ए गम गुल क़तर गई होगी नदी चढ़ कर उतर गई होगी गर्क होना था जिस को वो किश्ती साहिलों से गुज़र गई होगी हम ज़मी वालो की जो पहले पहल...

Read more »

0
ये तेरा घर ये मेरा घर - जावेद अख्तर
ये तेरा घर ये मेरा घर - जावेद अख्तर

ये तेरा घर ये मेरा घर, किसी को देखना हो गर तो पहले आके माँग ले, मेरी नज़र तेरी नज़र ये घर बहुत हसीन है -2 न बादलों की छाँव में, न चाँ...

Read more »

2
परखना मत परखने से कोई अपना नहीं रहता - बशीर बद्र
परखना मत परखने से कोई अपना नहीं रहता - बशीर बद्र

परखना मत परखने से कोई अपना नहीं रहता किसी भी आईने में देर तक चेहरा नहीं रहता बड़े लोगो से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना जहा दरिया समुन्...

Read more »

0
तड़पते हैं न रोते हैं न हम फ़रियाद करते हैं - ख़्वाजा हैदर अली आतिश
तड़पते हैं न रोते हैं न हम फ़रियाद करते हैं - ख़्वाजा हैदर अली आतिश

तड़पते हैं न रोते हैं न हम फ़रियाद करते हैं सनम की याद में हर-दम ख़ुदा को याद करते हैं उन्हीं के इश्क़ में हम नाला-ओ-फ़रियाद करते हैं इल...

Read more »

0
फिर मुझे दीदा-ए-तर याद आया - मिर्ज़ा ग़ालिब
फिर मुझे दीदा-ए-तर याद आया - मिर्ज़ा ग़ालिब

फिर मुझे दीदा-ए-तर याद आया दिल जिगर तश्ना-ए-फरियाद आया दम लिया था न क़यामत ने हनोज फिर तेरा वक्ते-सफ़र याद आया सादगी-हाए-तमन्ना, यानि ...

Read more »

0
जोश मलिहाबादी  - परिचय
जोश मलिहाबादी - परिचय

जो श मलिहाबादी का जन्म शब्बीर हसन खान के रूप में 5 दिसंबर 1894 को , संयुक्त प्रांत, ब्रिटिश भारत के मलिहाबाद में हुआ था | आप 1958 तक भारत...

Read more »

0
सुन तो सही जहाँ में है तेरा फ़साना क्या - ख़्वाजा हैदर अली आतिश
सुन तो सही जहाँ में है तेरा फ़साना क्या - ख़्वाजा हैदर अली आतिश

सुन तो सही जहाँ में है तेरा फ़साना क्या कहती है तुझको खल्क़-ए-खुदा ग़ाएबाना क्या ज़ीना सबा का ढूँढती है अपनी मुश्त-ए-ख़ाक बाम-ए-बलन्...

Read more »

1
निदा फ़ाज़ली - परिचय
निदा फ़ाज़ली - परिचय

दिल्ली में पिता मुर्तुज़ा हसन और माँ जमील फ़ातिमा के घर माँ की इच्छा के विपरीत तीसरी संतान नें जन्म लिया जिसका नाम बड़े भाई के नाम के क़ाफ...

Read more »

1
यार को मैं ने मुझे यार ने सोने न दिया  -ख़्वाजा हैदर अली आतिश
यार को मैं ने मुझे यार ने सोने न दिया -ख़्वाजा हैदर अली आतिश

यार को मैं ने मुझे यार ने सोने न दिया रात भर ताली-ए-बेदार ने सोने न दिया एक शब बुलबुल-ए-बेताब के जागे न नसीब पहलू-ए-गुल में कभी ख़ार ने ...

Read more »

0
वो बदल गये अचानक, मेरी ज़िन्दगी बदल के  - अहसान बिन दानिश
वो बदल गये अचानक, मेरी ज़िन्दगी बदल के - अहसान बिन दानिश

कभी मुझ को साथ लेकर, कभी मेरे साथ चल के वो बदल गये अचानक, मेरी ज़िन्दगी बदल के हुए जिस पे मेहरबाँ, तुम कोई ख़ुशनसीब होगा मेरी हसरतें तो ...

Read more »

0
कहते हो, न देंगे हम, दिल अगर पड़ा पाया
कहते हो, न देंगे हम, दिल अगर पड़ा पाया

कहते हो, न देंगे हम, दिल अगर पड़ा पाया दिल कहा की गुम कीजे ? हमने मुद्दआ पाया इश्क से तबीअत ने ज़ीस्त का मज़ा पाया दर्द की दावा पी, दर्द...

Read more »
 
 
Top