0
धुप में निकलो घटाओ में नहाकर देखो
जिंदगी क्या है किताबो को हटाकर देखो

वो सितारा है चमकने दो यु ही आँखों में
क्या जरुरी है उसे जिस्म बनाकर देखो

पत्थरों में जुबान होती है दिल होते है
अपनी घर की दर-ऑ-दीवार सजाकर देखो

फासला नजरो का धोखा भी तो हो सकता है
वो मिले या ना मिले हाथ बढाकर देखो- निदा फाजली

अब इसे जगजीत सिंह की आवाज में इसे सुनिए

Roman

Dhoop me niklo ghatao me nahakar dekho
jindgi kya hai kitabo ko hatakar dekho

wo sitara hai chamkane do yu hi aankho me
kya jaruri hai use jism banakar dekho

pattharo me jubaan hoti hai dil hote hai
apni ghar ki dar-o-deewar sajakar dekho

fasla najro ka dhokha bhi to ho sakta hai
wo mile ya n mile haath badhakar dekho - Nida Fazli

Post a Comment Blogger

 
Top