0
आँखों में जल रहा है क्यों बुझता नहीं धुआँ
उठता तो है घटा सा बरसता नहीं धुआँ

चूल्हा नहीं जलाए या बस्ती ही जल गई
कुछ रोज हो गए है अब उठता नहीं धुआँ

आँखों से पोछने से लगा आंच का पता
यु चेहरे फेर लेने से छुपता नहीं धुआँ

आँखों से आंसुओ के मरासिम पुराने है
मेहमान ये घर में आये तो चुभता नहीं धुआँ - गुलज़ार

मायने
मरासिम=संबंध

Roman

aankho me jal raha hai kyo bujhta nahi dhuaa
uthta to hai ghata sa barsata nahi dhuaa

chulha nahi jalaye ya basti hi jal gayi
kuch roz ho gaye hai ab uthta nahi dhuaa

aankho se pochne se laga aanch ka pata
tu chehre fer lene se chhupta nahi dhuaa

aankho se aansuo ke marasim purane hai
mehmaan ye ghar me aaye to chubhta nahi dhuaa - Gulzar


Post a Comment Blogger

 
Top