0
दिन इक के बाद एक गुजरते हुए देख
इक दिन तो अपने आप को मरते हुए देख

हर वक्त खिलते फुल की जानिब तका न कर
मुरझा के पत्तियों को बिखरते हुए भी देख

पैवंद बादलों के लगे देख जा ब-जा
बगलों को आसमान कुतरते हुए भी देख

उसको खबर ही नहीं है अभी अपने हुस्न की
आईना देके बनते सँवरते हुए भी देख

तारीफ सुनके दोस्त से 'अल्वी' तू खुश न हो
उसको तेरी बुराईयां करते हुए भी देख- मुहम्मद अलवी
[slider title="In Roman"]
din ik ke baad ek gujrate hue dekh
ek din to apne aap ko marte hue dekh

har wakt khilte phool ki janib takaa n kar
murjha ke pattiyo ko bikhrate hue bhi dekh

paiband baadlo ke lage dekh jaa-b-jaa
baglo ko aasmaan kutrate hue bhi dekh

usko khabar hi nahi hai abhi apne husn ki
aaina deke bante sawarte hue bhi dekh

taarif sunke dost se alvi tu khush n ho
usko teri buraiya karte hue bhi dekh - Muhmmad Alvi[/slider]

Post a Comment Blogger

 
Top