2
मै जितनी भी जबाने जानता हू
वो सारी आजमाई है
खुदा ने एक भी समझी नहीं अब तक

ना वो गर्दन हिलाता है, न हुंकार ही भरता है
कुछ ऐसा सोचकर शायद फरिश्तों ही से पढवा दे
कभी चाँद की तख्ती पे लिख देता शेर ग़ालिब का
धो देता है या कुतर के फांक जाता है

पढ़ा लिखा अगर होता खुदा अपना
न होती गुफ्तगू तो कम से कम
चिठ्ठी का आना जाना तो लगा रहता- गुलज़ार

Roman

Mai jitni bhi jabane janta hu
wo sari aajmai hai
khuda ne ek hbi samjhi nahi ab tak

na wo gardan hilata hai, n hunkar hi bharta hai
kuch aisa sochkar shayad farishto hi se padhwa de
kabhi chand ki takhti pe likh deta sher Ghalib ka
dho deta hai ya kutar ke faank jata hai

padha likha agar hota khuda apna
n hoti guftgu to kam se kam
chithti ka aana jana to laga rahta - Gulzar

Post a Comment Blogger

  1. खुदा के घर के पास कोई मदरसा नहीं रहा होगा।

    ReplyDelete

 
Top