2
अपने जीवन में सादगी रखना
आदमियत की शान भी रखना

बंद जेहनो के दर-दरीचो से
तुम न उम्मीदे-रौशनी रखना

डस न ले आस्तीन के साप कही
इन से महफूज़ जिंदगी रखना

हो खुले दिल तो कुछ नहीं मुश्किल
दुश्मनों से भी दोस्ती रखना

मुस्तकिल रखना मंजिले-मकसूद
अपनी मंजिल न आरजी रखना

ए सुखनवर नए ख्यालो की
अपने शेरो में ताजगी रखना

अपनी नजरो के सामने ‘शेरी’
मिरो-ग़ालिब’ की शाईरी रखना- चाँद शेरी

मायने
जेहनो=दिमाग, महफूज़=सुरक्षित, मुस्तकिल=अटल/दृढ़, मकसूद=ख्वाहिश, आरजी=अस्थाई, सुखनवर=कवि/शायर

Roman

apne jeevan me sadgi rakhna
aadmiyat ki shaan bhi rakhna

band jehno ke dar-daricho se
tum n ummide-roushni rakhna

das n le aastin ke saap kahi
in se mahfuj jindgi rakhna

ho khule dil to kuch nahi mushkil
dushmano se bhi dosti rakhna

mustkil rakhna manjile-maksud
apni manjil n aarji rakhna

e sukhanwar naye khyalo ki
apne shero me tajgi rakhna

apni najro ke samne sheri
miro-ghalib ki shayri rakhna- Chand Sheri

Post a Comment Blogger

  1. बहुत खूबसूरत गज़ल ..आभार

    ReplyDelete
  2. चाँद साहब की बेहतरीन ग़ज़ल...

    नीरज

    ReplyDelete

 
Top