0
खुदा ने दिल बनाकर क्या अनोखी शय बनाई है
ज़रा सा दिल है, इस दिल में मगर सारी खुदाई है

ये दिल अल्लाह का घर है, ये दिल भगवान का घर है
बदी दिल में समां जाये तो दिल शैतान का घर है
इसी दिल में भलाई है, इसी दिल में बुराई है

ये दिल फुल है, चट्टान है, मौज-ए-समुन्दर है
ये नरम पानी है, यही दिल सख्त पत्थर है
छुपा है दर्द, बेदर्दी भी इसी दिल में समाई है

जो चाहे देख लो इसमें ये आईने से सच्चा है
समझदारी में बुढा है, तो भोलेपन में बच्चा है
खिलौना भी ये बन जाता, आदत ऐसी पाई है

बड़ी मुश्किल है, इसका साथ छोड़ा भी नहीं जाये
अगर एक बार टूटे तो ये जोड़ा भी नहीं जाये
गुलो की आंच से शीशे की फितरत जो पाई है- ज़फर गोरखपुरी

Audio



Roman

khuda ne dil banakar kya anokhi shay banai hai
zara sa dil hai, is dil me magar sari khudai hai

ye dil allah ka ghar hai, ye dil bhagwan ka ghar hai
badi dil me sama jaye to dil shaitan ka ghar hai
isi dil me bhalai hai, isi dil me burai hai

ye dil phool hai, chattan hai, mouz-e-samundar hai
ye naram pani hai, yahi dil sakht patthar hai
chupa hai dard, bedardi bhi isi dil me samai hai

jo chahe dekh lo isme ye aaine se sachcha hai
samjhdari me budha hai, to bholepan me bachcha hai
khilona bhi ye ban jata, aadat aisi pai hai

badi mushkil hai, iska sath chhoda bhi nahi jaye
agar ek baar tute to ye joda bhi nahi jaye
gulo ki aanch se shishe ki fitrat jo paai hai - Zafar Gorakhpuri

Post a Comment Blogger

 
Top